Tuesday, 16 July, 2024

Bal Kand Doha 359

116 Views
Share :
Bal Kand  							Doha 359

Bal Kand Doha 359

116 Views

बहुओं के आने से अयोध्या की शोभा में अभिवृद्धि
 
(चौपाई)
भूप बिलोकि लिए उर लाई । बैठै हरषि रजायसु पाई ॥
देखि रामु सब सभा जुड़ानी । लोचन लाभ अवधि अनुमानी ॥१॥
 
पुनि बसिष्टु मुनि कौसिक आए । सुभग आसनन्हि मुनि बैठाए ॥
सुतन्ह समेत पूजि पद लागे । निरखि रामु दोउ गुर अनुरागे ॥२॥
 
कहहिं बसिष्टु धरम इतिहासा । सुनहिं महीसु सहित रनिवासा ॥
मुनि मन अगम गाधिसुत करनी । मुदित बसिष्ट बिपुल बिधि बरनी ॥३॥
 
बोले बामदेउ सब साँची । कीरति कलित लोक तिहुँ माची ॥
सुनि आनंदु भयउ सब काहू । राम लखन उर अधिक उछाहू ॥४॥
 
(दोहा)
मंगल मोद उछाह नित जाहिं दिवस एहि भाँति।
उमगी अवध अनंद भरि अधिक अधिक अधिकाति ॥ ३५९ ॥

 

Share :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *