Wednesday, 24 July, 2024

Bhardwaj praise Bharat’s love for Ram

131 Views
Share :
Bhardwaj praise Bharat’s love for Ram

Bhardwaj praise Bharat’s love for Ram

131 Views

भरत के रामप्रेम की भारद्वाज मुनि ने प्रसंशा की
 
सो तुम्हार धनु जीवनु प्राना । भूरिभाग को तुम्हहि समाना ॥
यह तम्हार आचरजु न ताता । दसरथ सुअन राम प्रिय भ्राता ॥१॥
 
सुनहु भरत रघुबर मन माहीं । पेम पात्रु तुम्ह सम कोउ नाहीं ॥
लखन राम सीतहि अति प्रीती । निसि सब तुम्हहि सराहत बीती ॥२॥
 
जाना मरमु नहात प्रयागा । मगन होहिं तुम्हरें अनुरागा ॥
तुम्ह पर अस सनेहु रघुबर कें । सुख जीवन जग जस जड़ नर कें ॥३॥
 
यह न अधिक रघुबीर बड़ाई । प्रनत कुटुंब पाल रघुराई ॥
तुम्ह तौ भरत मोर मत एहू । धरें देह जनु राम सनेहू ॥४॥
 
(दोहा) 
तुम्ह कहँ भरत कलंक यह हम सब कहँ उपदेसु ।
राम भगति रस सिद्धि हित भा यह समउ गनेसु ॥ २०८ ॥

 

Share :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *